Wednesday, December 30, 2009

रामप्यारी का फ़िर कमाल,टिप्पणिया पहुची हजार के पार (चर्चा हिन्दी चिट्ठो की )

नमस्कार …पंकज मिश्रा आपके साथ ..नया साल आ रहा है ..बधाई आप सबको !!!!!चर्चा परिवार की तरफ़ से !!

रामप्यारी आन मिशन और आज इस साल का अन्तिम पहेली सवाल साल 2009 की मेगा पहेली (158) : आयोजक उडनतश्तरी..अब तक के कुल कमेन्ट ११३६ (रात ११:२५ मिनट ) तक का रिकार्ड है हमारे पास …आयोजक है समीर लाल “समीर”

image ये पहेली इस साल की अंतिम पहेली होगी! इसमे जवाब देने का समय निर्धारित किया गया है ३१ दिसम्बर २००९ की रात १२ :०० तक. यानि नया साल २०१० शुरु होने तक.

image पार्ट A में आपको बताना है कि इसमे कुल कितने चेहरे हैं. पार्ट एक के सही जवाब देने वाले विजेताओं को पहेली चेंपियन - २००९ का प्रमाण पत्र दिया जायेगा.
पार्ट B में आपको इस चित्र में शामिल सभी चेहरों के नाम बताना है. इसका सही जवाब देने वाले प्रथम तीन विजेताओं को मिलेगा पहेली चेंपियन आफ़ चेंपियंस अवार्ड - २००९ का प्रमाण पत्र.

दोनों पार्ट में एक ही व्यक्ति सर्वप्रथम है तो उसे पहेली ’ग्रेण्ड चैम्पियन, २००९’ का एक अवार्ड अलग से दिया जायेगा, जिसमें सर्टीफिकेट के साथ समीर लाल ’समीर’ की बिखरे मोती की एक प्रति भेंट की जायेगी.

कविताएँ और कवि भी..मे गिरिजेश राव जी है लेकर कविता नरक के रस्ते : अभिशप्त, उदास, अधूरी सिम्फनी

शेर मर रहे हैं बाहर सरेह में
खेत में
झुग्गियों में
झोपड़ियों में
सड़क पर..हर जगह
सारनाथ में पत्थर हम सहेज रहे हैं
जय हिन्द।
मैं देखता हूँ
छ्त के छेद से
लाल किले के पत्थर दरक रहे हैं।

पिट्सबर्ग में एक भारतीय भी एक कविता के साथ ये बदनुमा धब्बे

image मेरे शुभचिंतक
जुटे हैं दिलोजान से
मिटाने
बदनुमा धब्बों को
मेरे चेहरे से
शुभचिंतक जो ठहरे
लहूलुहान हूँ मैं
कुछ भी
देख नहीं सकता
समझा नहीं पाता हूँ
किसी को कि
ये धब्बे
मेरी आँखें हैं!

जानिये इतिहास को my india5

सारनाथ में ढाई हजार वर्ष पुरानी दीवार

भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षणविद अजय कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि स्तूप की गुप्तकालीन दीवार मिलने से पुराने इतिहास की सच्चाई सामने आ रही है। श्रीवास्तव के मुताबिक सारनाथ चौखंडी स्तूप पर ढाई हजार वर्ष पूर्व भगवान बुद्ध से बिछड़े उनके शिष्य सारनाथ में मिले थे। यह निर्माण उन्हीं अनुयायियों की देन है। इसके पूर्व भी दो दीवारें पहले ही खोजी जा चुकी हैं। प्राचीन स्वरूप बना रहे अब वैज्ञानिक विधि से उसे संरक्षित भी कराया जाएगा।

अजय भईया गांव से वापस आ गये है  और दिखाये है कुछ फ़ोटो आप भी देखिये!रेल यात्रा ,, कुछ चित्र और ,ग्राम प्रवास (एक )

image आखिरकार लगभग एक सप्ताह के ग्राम प्रवासके बाद वापसी हो ही गई । आज ही दोपहर कोवापसी हुई है । अभी तो imageउंगलियों में गांव कीमीठी मीठी ठंड का स्वाद भी नहीं उतरा हैइसलिए ज्यादा तो शायद नहीं लिखा जाएगा ।मगimage र एक  ब्लोग्गर के सामने कंप्यूटर हो औरवो पोस्ट न लिख मारे तो फ़िर काहे का ब्लोगरजी । और हम तो घोषित ब्लोग्गर हैं जी ...अबये मत पूछियेगा कि घोषित अपराधी की तर्ज़ पेहमें घोषित ब्लोग्गर किसने बना दिया ।मगर येसब बातें तो फ़िर कभी फ़िलहाल तो इस यात्रा और मेरे ग्राम प्रवास की पहली किस्त आपके सामने रख रहा हूं ।जाहिर सी बात है कि आज मेरे शब्दों से ज्यादा आपसे मेरे मोबाईल के

सुमन जी बता रहे है न्याय में देरी का अर्थ बगावत नहीं

साक्ष्य और सबूतों के आधार पर वाद निर्णित होते हैं । जेसिका पाल, रुचिका आदि मामलों में न्यायिक अवधारणाएं बदली जा रही हैं जबकि होना यह चाहिए की विवेचना करने वाली एजेंसी चाहे वह सी.बी.आई हो पुलिस हो या कोई अन्य उसकी विवेचना का स्तर निष्पक्ष और दबाव रहित होना चाहिए जो नहीं हो रहा है । मुख्य समस्या अपराधिक विधि में यह है जिसकी वजह से न्याय में देरी होती है । न्याय में देरी होने का मुख्य कारण अभियोजन पक्ष होता है जिसके ऊपर पूरा नियंत्रण राज्य का होता है । राज्य की ही अगर दुर्दशा है तो न्याय और अन्याय में कोई अंतर नहीं रह जाता है

सदा जी कर रही है आगमन नये साल का ....

image पल-पल वक्‍त के साथ कदम मिला के चल,ठहरता नहीं यहां किसी के लिये कोई भी पल ।

बीते वक्‍त की बातों से सीख लेना सदा ही,

जाने वाला लम्‍हा लौटेगा नहीं, वो होगा कल ।

नया पल, नया दिन लेकर आ रहा है ये साल,

राजतन्त्र पर ग्वालानी जी बता रहे है गुस्सा आए तो जाने राज पिछले जन्म का

image एनडीटीवी के बकवास कार्यक्रम में राज पिछले जन्म का में कल के एपीसोड में संभावना सेठ को बुलाया गया था। वह अपने पिछले जन्म का राज यह सोचकर जानने आई थीं कि उनको कोई पुरुष गलत नजरों से देखता है तो उनको बहुत ज्यादा गुस्सा क्यों आता है। अपने टीवी वालों को तो एक बकवास विषय चाहिए। इसमें कोई दो मत नहीं है कि ज्यादातर पुरुषों की गंदी नजरों का सामना हर दूसरी महिला को करना पड़ता है तो क्या इसका यह मतलब है कि हर दूसरी महिला पहुंच जाए एनडीटीवी वालों के दरबार में।

 

ना जानते हो तो सुन लिजिये शेखावत जी से  लाइफ शादी के पहले और शादी के बाद

image

Life before marriage is AIRTEL
" u can express ur self ".
During honeymoon is RELIANCE-
" Always get in Touch ".
After Honeymoon is HUTCH
" Wherever u go ur wife network follows".

लो जी पढ लो रुक जाना मौत है- विल्स कार्ड ८

बरसात

उस रोज

मैं घर आया

बरसात में भीग image

भाई ने डॉटा

’क्यूँ छतरी लेकर नहीं जाते?’

बहन ने फटकारा

’क्यूँ कुछ देर कहीं रुक नहीं जाते’

पिता जी गुस्साये

’बीमार पड़कर ही समझोगे’

माँ मेरे बाल सुखाते हुए

धीरे से बोली

कल रात

एकाएक

पूरे चाँद ने

मुझे

मेरे कमरे की खिड़की से

घूरा...

मैने डर कर image

तुम्हारी तस्वीर

छिपा दी....

क्या जबाब देता उसे??

बताओ न!!

अब

तुम्हारी

तस्वीर नहीं मिल रही!!

ओये जी लिजिये नमस्ते दिजिये आशिर्वाद जय राम नमस्कार

20 comments:

Arvind Mishra said...

कुछ अच्छे लिंक जो छूट गए मिल गए यहाँ -आभार !

Suman said...

nice

गिरिजेश राव said...

आप जैसे चर्चाकार कठिन कसौटी रख देते हैं। लगता है बहुत कायदे से लिखाई होनी चाहिए - अदृश्य अनुशासन।

ललित शर्मा said...

सुंदर चर्चा के लिए आभार‍‍, ताऊ जी और रामप्यारी को ११११ टिप्पणियों की बधाई, नव वर्ष की शुभकामनाओं के सहित

काजल कुमार Kajal Kumar said...

पृष्ठविन्यास में कहीं कुछ कमी रह गई लगती है, शायद.

seema gupta said...

अच्छी और सुन्दर चर्चा आभार....
regards

ताऊ रामपुरिया said...

बहुत सुंदर चर्चा. शुभकामनाएं.

रामराम.

अजय कुमार झा said...

बहुत ही कमाल की चर्चा है पंकज भाई, पढकर आनंद आ गया

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...

पंकज भाई, आनंद आ गया आज की चर्चा में. शुभकामनाएं!

समयचक्र said...

आनंद आ गया आज की चर्चा में...

पी.सी.गोदियाल said...

बहुत सुंदर चर्चा !

हिमांशु । Himanshu said...

बेहतरीन चर्चा | आभार |

पं.डी.के.शर्मा"वत्स" said...

अच्छी और सुन्दर चर्चा !!!!!

श्रीश पाठक 'प्रखर' said...

बेहतरीन चर्चा | आभार

राजकुमार ग्वालानी said...

सुंदर चर्चा

दिगम्बर नासवा said...

अच्छी और सुन्दर चर्चा .......

Ratan Singh Shekhawat said...

बहुत सुंदर चर्चा. शुभकामनाएं.

Apoorv said...

जाते हुए साल की बेहतरीन चर्चाओं के आभार के साथ आते हुए साल की शुभकामनाएं व बधाई...

बवाल said...

बहुत उम्दा चर्चा

Udan Tashtari said...

बहुत बेहतरीन चर्चा..आनन्द आ गया. मेहनत दिख रही है. :)


मुझसे किसी ने पूछा
तुम सबको टिप्पणियाँ देते रहते हो,
तुम्हें क्या मिलता है..
मैंने हंस कर कहा:
देना लेना तो व्यापार है..
जो देकर कुछ न मांगे
वो ही तो प्यार हैं.


नव वर्ष की बहुत बधाई एवं हार्दिक शुभकामनाएँ.

पसंद आया ? तो दबाईये ना !

Followers

जाहिर निवेदन

नमस्कार , अगर आपको लगता है कि आपका चिट्ठा चर्चा में शामिल होने से छूट रहा है तो कृपया अपने चिट्ठे का नाम मुझे मेल कर दीजिये , इस पते पर hindicharcha@googlemail.com . धन्यवाद
हिन्दी ब्लॉग टिप्स के सौजन्य से

Blog Archive

ज-जंतरम

www.blogvani.com

म-मंतरम

चिट्ठाजगत