Saturday, September 05, 2009

शिक्षक दिवस विशेष (चर्चा)

नमस्कार आप सब को खाश करके अपने उन ब्लागर को जो पेशे से शिक्षक है !!!
आज शिक्षक दिवस है इसी उपलक्ष्य में कुछ पोस्ट भी किया गया है .
पहली पोस्ट है सतीश पंचम जी की जो कि अपने चिर-परिचित अंदाज़ में बता रहे है कि किस तरह होगा मास्टरों का दिनचर्या अगर उनको वेतन ना मिले -


पेशे से शिक्षक रहे विवेकी राय जी ने 'मनबोध मास्टर की डायरी' में व्यंगात्मक शैली में बताया है कि किस तरह वह एक बैंडबाजे वाले की खोज में चले और उन्हे पढे लिखे बैंडबाजे वालों के एMy Photoक दल के बारे में जानकारी मिली।
एक जन ने बताया कि -

स्कूल के मास्टर लोग शादी-विवाह में बैंड बजाने का काम करने लगे हैं।
..... ये लोग बजनिया नहीं हैं लेकिन पेट और परिस्थिति जो न करावे । इनमें
बीएड, बीपीएड, विद्यालंकार, शास्त्री, आचार्य सभी शिक्षित लोग हैं। इनके
एक रात का सट्टा भी ज्यादा नहीं है - बस पांच सौ रूपये रात समझिये।

दूसरी पोस्ट है अविनाश वाचस्पती जी की जो कि बता रहे है मास्टरी के धंधे में होने वाले बेइन्तहा मुनाफा के बारे में .


बात तो सच है की मुनाफा तो है सौ टके पर मास्टर ही तो हमें भी मुनाफा करना सिखाते है .



शिक्षक दिवस पर विशेष - तीन ताकतों को समझने का सबक

!

अब आगे बढ़ते है मीतMy Photo के साथ उनकी ये कविता दिल तो खिलौना है

दिल तो खिलौना है,
आँखों को रोना है,
इस जहाँ में ना था कोई, अपना,
ना हम किसी के हैं,
ना किसी का होना है...

Ajay Kumar Jha's Facebook profileअजय कुमार झा बहूत ही सुधरे हुए गजब की कटिंग काटते है भाई कमाल का दो लाइना रेल लेकर निकल पड़े है अजय बाबू बहूत बहूत शुभकामनाये हमारी तरफ से

झा जी दो लाइनों में ही है बड़ा दम

फेल हो जाते-जाते हैं बड़े-बड़े बम

बाकी तो ताऊ जी ने कह ही दिया है कि




<span title=ब्लॉगर">
ताऊ रामपुरिया ने कहा…

वाह बहुत लाजवाब रेल है आपकी. ईश्वर करे ये राजधानी एक्सप्रेस की तरह दौडे.

आज क्षमा वाणी का पर्व है। जैन दर्शन का यह एक महत्वपूर्ण सिद्धान्त हैं। जैन धर्म में क्षमा का बडा महत्व बताया है। ये बातें लिखी है श्री जयन्ती जैन जी ने , आप नीचे के लिंक से वहा जाकर पूरा उपाय पढ़ सकते है.

तनावमुक्ति का, सफल होने का उपाय : क्षमा करना">तनावमुक्ति का, सफल होने का उपाय : क्षमा करना

जी नहीं बुक इंस्टाल
नहीं खोला हूँ ये सारी तस्वीरे रवीस कुमार जी ने लिया है
थोडा देर से ही सही लेकिन एक और शिक्षक दिवस विशेष पर नजर पडी हमारी My Photo हिमांशु जी के द्वारा लिखा गया है

गुरु की पाती -

डा. शास्त्री जी का ये पोस्ट अपने मुल्क के नाम




हमारे दिल में नफरत


की मशालें जल नही सकती।

निर्मला कपिला जी के संस्मरण का अंतिम भाग आज प्रकाशीत हुआ है My Photo


8 comments:

Nirmla Kapila said...

मनोज जी शिक्षक दिवस पर आपको भी शुभकामनायें बडिया चिठा चर्चा है आभार्

दिगम्बर नासवा said...
This comment has been removed by the author.
दिगम्बर नासवा said...

शिक्षक दिवस पर आपको बहुत बहुत शुभकामनायें PANKAJ जी ...........बडिया चिठा चर्चा है आज की ...

चंदन कुमार झा said...

आपके शिक्षक दिवस की शुभकामनायें और सुन्दर चर्चा की भी ।

चंदन कुमार झा said...

आपको शिक्षक दिवस की शुभकामनायें और सुन्दर चर्चा की भी ।

चंदन कुमार झा said...

सुन्दर चर्चा और शिक्षक दिवस की शुभकामनायें ।

venus kesari said...

sundar charcha

happy bloging

venus kesari

हिमांशु । Himanshu said...

शिक्षक दिवस पर शिक्षकों द्वारा अथवा शिक्षक केन्द्रित प्रविष्टियों का बेहतर संकलन कर दिया है आपने ।
मेरी प्रविष्टि के उल्लेख का धन्यवाद ।

पसंद आया ? तो दबाईये ना !

Followers

जाहिर निवेदन

नमस्कार , अगर आपको लगता है कि आपका चिट्ठा चर्चा में शामिल होने से छूट रहा है तो कृपया अपने चिट्ठे का नाम मुझे मेल कर दीजिये , इस पते पर hindicharcha@googlemail.com . धन्यवाद
हिन्दी ब्लॉग टिप्स के सौजन्य से

Blog Archive

ज-जंतरम

www.blogvani.com

म-मंतरम

चिट्ठाजगत