Saturday, September 12, 2009

रूठे हुवे हैं सजना चल प्यार से मना लें (चर्चा हिन्दी चिट्ठो की )

नमस्कार !! किसी चर्चा का जितना चर्चा करोगे उस चर्चा का उतना ही चर्चा होगा :)

चर्चा करने से पहले एक जरूरी बात !
अगर आप किसी सायबर कैफे में मेल वगैरह चेक करने जाए तो यह सुनिश्चित कर ले कि आप जगह छोडने अपने मेल खाते से बाहर हुए है.
सब लोग खाश कर मै यह सोचता हूँ कि अगर मेरे पोस्ट की संख्या तीन अंक में पहुच जाए तो मै वह पोस्ट किसी को समर्पित करूगा . और आज वह शुभ घणी मेरे साथ तो अभी नहीं पर निर्मला कपिला जी के साथ आये है आज उन्होंने अपनी १५०वी पोस्ट पब्लिश की है .
बधाई आपको !!!My Photo

आज ये मेरी 150 वीं पोस्ट जो मेरे श्रद्धेय दुरूदेव श्री प्राण शर्मा जी को समर्पित है.
मेरा ये गीत मेरे गुरूदेव श्रद्धेय प्राण शर्मा जी को समर्पित है। गुरू जी
ने लिखने के लिये तो गज़लें दी थी मगर मुझ अल्पग्य ने गीत रच दियेौर गुरू
जी ने इन्हें संवार कर और मेरी गलतियाँ निकाल कर इन्हें भी सुन्दर बना
दिया । उनमे से ये पहला गीत अपके सामने प्रस्तुत करने का आदेश दिया।
http://www.geocities.com/kishan_nie/photos/butterfly1.jpg
डा. शास्त्री जी को भी ब्लॉगर समुदाय से मिला प्यार बहूत कुछ लिखने पर मजबूर कर दिया , आप ने लिखा है कि -
करीब सात माह पहले जब मैं ब्लॉगिग की दुनिया में आया था तो सोचता था कि
कैसे इस महासागर में अपने पैर जमा सकूँगा। लेकिन ब्लॉग-जगत इतना सहृदय है
कि इस दुनिया की पुण्यशीलात्माओं ने सदैव मेरा उत्साहवर्धन किया।

चित्र परिचय - शास्त्री जी के ब्लागिंग क्लास के मेंबर
http://www.geocities.com/kishan_nie/photos/butterfly1.jpg

तकनीक
अपने पोस्ट में Read More का बिकल्प जोडीये , आशीष जी से जुड़कर
My Photo
भाई अपनी अक्षयांशी सिंह ज से " जहाज कहना सीख गयी है
http://www.geocities.com/kishan_nie/photos/butterfly1.jpg
झीनी-झीनी बारीश - मीत
My Photoवो हर सुबह आते जाते लोगो को बारिश के लिए दुआ करते देख और सुन रहा था... हर तरफ लगभग एक ही जुमला सुनने को मिलता...हे भगवान तू कितना निर्दयी है?? क्या इस साल गर्मी से ही मार देगा..

प्यार की गर्मी - भाई मुझे पता नहीं चला कैसी होती है :)
ये बात नीर जी बता दे रहे है
रात सिकुडी है
http://www.geocities.com/kishan_nie/photos/butterfly1.jpg

साँसे ठहरी सी हैं

कोहरा My Photoघनेरा

सुन्न जिस्म है मेरा।
http://www.geocities.com/kishan_nie/photos/butterfly1.jpg


जनभाषा के हायपर लिंक

ऐसे ही एक दिन अरविन्दजी अपने ब्लाग के बारे में कह रहे थे- क्वचिदन्य्तोअपि
बोलने में नहीं गूगल ट्रांस्लितेरेशन पर भी कठिन ही है मगर मुझे इस बात का
गर्व रहेगा अगर कम से कम इस क्लिष्ट शब्द समास को लोगों को रटा सका


http://www.geocities.com/kishan_nie/photos/butterfly1.jpg

कुलवंत हैपी जी
पिछले दिनों बीबीसी में छापी एक रिपोर्ट के मुताबिक हर तीसरी किशोरी सैक्स
की डिमांड पूरी न करने के कारण अपने पुरुष मित्र के गुस्से का शिकार होती
है। बहुत सी लड़कियां तो झूठा मूठा प्यार करने वाले फरेबियों के चक्कर में
आकर कुमारित्व खो लेती हैं। मैगन फॉक्स जैसी बोल इसलिए देती है कि क्योंकि
उनको इससे पब्लिसिटी मिलती है, जबकि आम महिलाओं को इसका खुलासा करने के
बाद केवल बदनामी, तिरस्कार ही मिलेगा



सबब थी जीने का जो भी

हर उस ख्वाहिश ने दम तो
खामोशी इस कदर छाई
की सब ख्वाबों ने घर छोड़ा ।



ज़रा सोचिये....! एक बार अपनी जिंदगी पर नज़र डालिये...! आपकी जिंदगी में
भी कोई ना कोई तो ऐसा होगा ही ना जो हर मंदिर में जा कर आपके लिये
प्रार्थना करता होगा My Photo कंचन सिंह





कीर्तिश कुमार

याद है वो पढने जाने के लिए सुबह उठ जाना ,
ये तो होता था एक बहाना
क्योकि
यही था अपना एक ठिकाना ,
छप्पन -चौकड़ खेल दिन बिताते थे .
चाचा की चाय पीते


लाख बुलाया,
कितनी आवाज़े दी


पर माना नही
छत से उतर कर जीने पे बैठ गया आखिरकार------ नादान




ये प्रीत की है मेहँदी फिर हाथ में लगा लें
रूठे हुवे हैं सजना चल प्यार से मना लें http://www.google.com/friendconnect/profile/picture/JJLJ9X_fWZlf_HV12fAxEbRPNn_gQ50nnaEFmo25CwPMWuC092oFPd9VP4u5WBkyIJaOYSTPPprW48BDzSjIvDtWwetjNqMYSuWJbPnviPTjhcDStPZYkon244T9QySLGuYu4eQLL28D8IdY9dsT2vzhsMSbXDBDP3TzD-Kmook59GR9aQtBk10uJk2Cb8BUHMmogGGgY9Xtm0AA52voAa6g4kqC8ZypeztqO-Rkn13manvhaJbR5QKzU_P4aU1Huq-F1ppXt4A दिगंबर नासवा जी !


इस दर्द से सिसकती खामोश ज़िंदगी को
लम्हा जो छू के आया जिंदगी बना लें





जो अपनी जोरू का हुक्म मानेगा वह अदूलहुक्मी का मुजरिम करार दिया जायेगा हिमांशु भाई का ब्लॉग



भला सा इक वक्त संग तेरे गुज़ारा


इन बातों से दिल बहला कर चले My Photo


ऐसे थे वैसे थे जैसे भी थे 'अदा'


मानोगे हम दुनिया हिला कर चले


7 comments:

Mrs. Asha Joglekar said...

Nice reading.

Ratan Singh Shekhawat said...

बढ़िया चर्चा :)

हिमांशु । Himanshu said...

कंचन जी और अदा जी की रचना के लिये आभार । चर्चा का कलेवर बेहतर हो रहा है । धन्यवाद ।

ताऊ रामपुरिया said...

वाह दिन पर दिन निखार आता जा रहा है चर्चा में. बहुत शुभकामनाएं.

रामराम.

Nirmla Kapila said...

आपकी ये चिठा चर्चा ना पढती तो अनर्थ हो जाता नास्वा जी और कंचन जी की अतनी सुन्दर पोस्ट तो पढने से रह गयी थी बहुत बहुत धन्यवाद ।

आशीष खण्डेलवाल (Ashish Khandelwal) said...

एक और सुंदर चर्चा.. हैपी ब्लॉगिंग

'अदा' said...

आह्ह्ह्ह ..
बहुते बढ़िया रहा भाई चर्चा ..दिन दूना रात चौगुना आप की चर्चा में निखार, चमकार, धार, सब जोरदार आते जा रहा है ..
क्या बात है ..

पसंद आया ? तो दबाईये ना !

Followers

जाहिर निवेदन

नमस्कार , अगर आपको लगता है कि आपका चिट्ठा चर्चा में शामिल होने से छूट रहा है तो कृपया अपने चिट्ठे का नाम मुझे मेल कर दीजिये , इस पते पर hindicharcha@googlemail.com . धन्यवाद
हिन्दी ब्लॉग टिप्स के सौजन्य से

Blog Archive

ज-जंतरम

www.blogvani.com

म-मंतरम

चिट्ठाजगत