Friday, September 11, 2009

तुम आये तो आया मुझे याद , गली में आज चाँद निकला ( चर्चा हिंदी चिट्ठो की )

तुम आये तो आया मुझे याद , गली में आज चाँद निकला !
जाने कितनो दिनों के बाद, गली में आज चाँद निकला !!

नमस्कार आप सभी को जो यहाँ तक आये है . ऊपर की लाइने भी आप सभी के लिए है . धन्यवाद आप सभी को मुझे सराहने के लिए !
शुरुआत समीर जी के लेख से !

पीढ़ी दर पीढ़ी का सिलसिलाevolutionhttp://www.fromoldbooks.org/Tymms-Illuminating/pages/p27-border-monochrome/p27-border-monochrome-415x500.jpg

बदला बहुत जमाना बेटा

घर की लाज बचाना बेटा.

नर नारी सब एक बराबर

बीबी लड़की लाना बेटा.

होटल मंहगे बहुत हुए हैं

खाना घर पर खाना बेटा.

http://www.fromoldbooks.org/Tymms-Illuminating/pages/p27-border-monochrome/p27-border-monochrome-415x500.jpg

मरने के हौसले भी मेरे यार कम हुए है - अदा
क्यूँ अश्क बहते-बहते यूँ आज थम गए हैं
इतने ग़म मिले कि, हम ग़म में रम गए हैं

तुम बोल दो हमें वो जो बोलना तुम्हें है
फूलों से मार डालो हम पत्थर से जम गए हैं

रंगीनियाँ लिए हैं ग़मगीन कितने चेहरे
अफ़सोस के रंगों में वो सारे रंग गए हैं
http://www.writeexpress.com/or/g/or-patriotic-border.gif

एक दिन यूं ही ख्याल आया,
अलग तरिके से देखूं ये संसार,
क्या सबकी सोच एक जैसी है?
क्या सबके लिये खास होता है,
उनका पहला प्यार?
http://s.ngm.com/2007/05/us-mexican-border/img/border-wall-615.jpg
बहुत समय पहले की बात है जब देवताओ ने सोचा की एक प्रेम कथा बनाई जाए ; उन्होंने तुम्हे बनाया , उन्होंने मुझे बनाया , और एक जन्म बनाया ;
http://s.ngm.com/2007/05/us-mexican-border/img/border-wall-615.jpg

धान के देश में " है जी.के अवधिया जी और बता रहे है पैसे कमाने का तरीका गूगल से !
http://www.writeexpress.com/or/g/or-patriotic-border.gif

My Photo शनी देव तो खुद कष्ट में है दूसरो को क्या .....
http://www.writeexpress.com/or/g/or-patriotic-border.gif



सुख-चैन, यश-कीर्ति, मान-मर्यादा सारी गई,

धरा पर जब-जब इंसान की मति मारी गई !
भोग-विलासिता में चूर मत भूल, अरे नादान,

मरणोपरांत मान्धाता की लंगोट भी उतारी गई !!


अध्यापिका - रामप्यारी ! तुम्हारा सारा होमवर्क गलत है

आखिर इसका क्या कारण है?? आलोक जी


रामप्यारी - जी, कारण तो ताऊ ही बता सकते है


अगर आप कॊ अपने बेटे के लिये अच्छी बहू चाहिये तो...My Photo पहले अपनी बेटी मै
अच्छे संस्कार डाले, जो बाते आप को आने वाली बहू मे चाहिये वो सब खुबिया
आप पहले अपनी बेटी मै डाले.... फ़िर देखे केसे नही मिलती आप को अच्छी
बहुत..... काश इस बात को सब समझ सके तो फ़िर भारत मै अच्छी बहू मिलना
मुश्किल नही, पहल आप करे...आप के पीछे सब आयेगे

आज के परिचयनामा मे हम आपको मिलवाते हैं श्री विवेक रस्तोगी से. जिनके ब्लाग कल्पतरु से तो आप भलीभांति वाकिफ़ ही हैं जहां आजकल कालीदास और मेघदूत[vivek2.JPG]की सुंदर चर्चा चल रही है. तो आईये विवेक रस्तोगी साहब. आपका ताऊ स्टूडियो में स्वागत है.

मानवीय संबंधों का आदर करो,

परिवार के प्रति कर्तव्यों का पालन करो,

कोई ख्वाब,मन को छू रहा है
और कोई आंखों से छलक रहा है।
कोई सोना चाहता है जिंदगी भMy Photo
और कोई सदियों से जग रहा है।
अलग है सबकी अपनी कहानी


मैंने देखा नहीं है उसको
मगर हवाओं में महसूस किया है !
है ख़्वाबों में तस्वीर उसकी
मैंने तस्वीरों में महसूस किया है !
वो मेरे अहसाह ,मेरी बातों में है


"बारिश बरसे"


टप, टप, टप, टप, टपप, टपप,

बारिश बरसे टप, टप, टप,

गरजे बदरा घनन, घनन,

बिजली चमके शनन, शनन ।

देख के बारिश की बौछार,

झूमें पौधे बारम्बार,

सूखे से छुटकारा मिला है,

नदियाँ भी मारें फुँकार


आज सच्चा शरणम पर हिमांशु भाई
My Photo

कानून ताज़ीरात शौहर : भारतेंदु हरिश्चंद्र - 2 लेकर

8 comments:

अनूप शुक्ल said...

सुन्दर चर्चा। पेश करने का अन्दाज रोचक!

हिमांशु । Himanshu said...

पंकज भाई, आज चर्चा की फॉर्मेटिंग अच्छी है - जम रही है । बहुत कुछ व्यवस्थित भी है । कुछ खूबसूरत कविताओं और गजलों का यहाँ लिंक सजा कर विनियोग चर्चा को बेहतर बना रहा है । जारी रहिये । क़ायनात जुड़ेगी आपकी चर्चा से ।

ताऊ रामपुरिया said...

वाह मिश्राजी, आप ने तो बहुत ही विस्तार दिया चर्चा को. चित्रों का संयोजन भी बडा सुंदर लगा, आप अकेले इतनी लंबी चर्चा कर लेते हैं यह बहुत बडी बात है, मेरी एक नेक राय है कुछ और लोगों को जोडिये इसमें. और ज्यादा से ज्यादा चिठ्ठों को शामिल किजिये. बहुत शुभ कामनाएं.

रामराम.

आशीष खण्डेलवाल (Ashish Khandelwal) said...

एक और सशक्त चर्चा.. प्रयास जारी रहे.. हैपी ब्लॉगिंग

Nirmla Kapila said...

सफ्ल प्रयास बहुत बहुत बधाई

दिगम्बर नासवा said...

AAPKI CHARCHA VISTAAR SE HOTI HAI ..... PATA CHAL JAATA HAI BLOG MEIN KYA LIKHA HOGA ... SUNDAR CHARCHA.............

'अदा' said...

aapki gali mein chaand nikla hai aur sitaaron se ham bhi chamak rahe hain ..
bahut badhiya hai ji..

Pappu said...

सशक्त चर्चा...

पसंद आया ? तो दबाईये ना !

Followers

जाहिर निवेदन

नमस्कार , अगर आपको लगता है कि आपका चिट्ठा चर्चा में शामिल होने से छूट रहा है तो कृपया अपने चिट्ठे का नाम मुझे मेल कर दीजिये , इस पते पर hindicharcha@googlemail.com . धन्यवाद
हिन्दी ब्लॉग टिप्स के सौजन्य से

Blog Archive

ज-जंतरम

www.blogvani.com

म-मंतरम

चिट्ठाजगत